Buffalopedia प्रसव अवस्था प्रसूतिकाल बाह्य परीक्षण द्वारा गर्भधारण जाँच
Print E-mail

बाह्य परीक्षण द्वारा गर्भधारण का अनुमान

कृत्रिम गर्भाधान के बाद यदि भैंस गाभिन हो जाती है तो निम्नलिखित लक्षण देखने को मिलते हैं जिससे हम एक बस अनुमान लगा सकते हैं। ये लक्षण निम्नलिखित हैं:-

Ø   गर्भधारण करने के बाद भैंसें साधारणतया गर्मी में नहीं आती है।

Ø   गर्भधारण करने के बाद भैंसें अधिक शांत हो जाती है।

Ø   गर्भधारण के शुरू के महीनों में भैंसों में चर्बी बढ़ने की प्रवृति (Fattening tendency)   देखने को मिलती है।

Ø   दूध उत्पादन में कमी जाती है।

Ø   शरीर का भार धीरे धीरे बढ़ने लगता है।

Ø   पेट का आकार भी धीरे धीरे बढ़ने लगता है।

Ø   कटड़ियों में लगभग 5-6 महीनों के बाद से ही थन का आकार बढ़ने लगता है जबकि मादा भैंसों में ये लक्षण प्रसव के 2-3 सप्ताह मात्र पहले देखने को मिलते हैं।

Ø   कुछ भैंसों में थन का आगे वाले भाग में सूजन गर्भ के अंतिम महीनों के दौरान देखने को मिलती है।

 
 
कॉपीराइट ©: Buffalopedia,केंद्रीय भैंस अनुसंधान संस्थान ,भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद, एक स्वायत्त संगठन, कृषि अनुसंधान और शिक्षा विभाग के तहत, कृषि मंत्रालय, भारत सरकार के अंतर्गत आता है| सूचना का अधिकार | अस्वीकृत करना | गोपनीयता कथन
भा.कृ.अ.प.- केंद्रीय भैंस अनुसंधान संस्थान द्वारा डिजाइन और विकसित किया गया है|